क्या है मशरूम की सब्जी बनाने की विधि: आसान और स्वादिष्ट

in #steempress7 months ago (edited)


मशरूम की सब्जी बनाने की विधि तो बहुत सारी है लेकिन सबसे पहले यह जानना जरुरी है कि आखिर मशरूम क्या होता है और इसकी खेती कैसे की जाती है। मशरुम को आम भाषा में कुकुरमुत्ता भी कहा जाता है। कुकुरमुत्ता शब्द के बारे में एक बहुत ही रोचक धारणा प्रचलित है कि कुकुरमुत्ता शब्द कुकुर अर्थात कुत्ता और मुत्ता अर्थात मूत्र से बना है। मतलब  यह कुत्तों के मूत्रत्याग के परिणामस्वरूप उत्पन्न होता है। ऐसी मान्यता भारत के कुछ इलाकों में प्रचलित है, किन्तु इस धारणा में कितनी सच्चाई है यह कहना मुश्किल है।

वैसे तो बारिश के मौसम में जगह जगह मशरूम उग आते हैं लेकिन सभी खाने योग्य नहीं होते और बहुत से जहरीले भी होते हैं जिन्हे खाने से जान भी जा सकती है। खाने योग्य मशरूम की खेती की जाती है जिन्हे खुम्भी भी कहा जाता है।

आज बड़े पैमाने पर मशरूम की खेती की जाती है और सरकार इसके लिए प्रशिक्षण और प्रोत्साहन भी देती है। अगर आप भी मशरूम की खेती कर अपना व्यवसाय करना चाहते हैं तो ज्यादा जानकारी यहाँ से ले सकते हैं।

मशरूम में पाए जाने वाले पोषक तत्व

मशरुम में कई प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं इसलिए इन्हें गुणों की खान कहना अतिशियोक्ति नहीं होगा।

प्रोटीन - मशरुम में लगभग 20-30 प्रकार के उच्च कोटि के प्रोटीन पाए जाते हैं जो पचने में किसी भी पशु पदार्थों जैसे दूध, मांस अंडा आदि से प्राप्त प्रोटीन से कहीं ज्यादा आसानी से पच कर शरीर में अवशोषित हो जाते हैं।

इसके प्रोटीन में कई प्रकार के जरुरी एमिनो एसिड जैसे मेथिओनीन, ल्युसीन, आइसोल्यूसिन, थ्रिमिन, ट्रिप्टोफेन, आर्जिनिन इत्यादि पाए जाते हैं जो अक्सर दालों इत्यादि में प्रचुर मात्रा में नहीं पाए जाए हैं।

कार्बोहायड्रेट - मशरूम में सिर्फ 5% तक कार्बोहायड्रेट पाया जाता है इसलिए इसे खाने से मोटापा नहीं बढ़ता है।

फाइबर (रेशे)- इसमें लगभग 1% रेशे पाए जाते हैं जो कब्ज़, अम्लीयता, अपचन आदि को दूर करने में लाभदायक होते हैं।

वसा - मशरूम में बहुत ही कम मात्रा लगभग (0.5%) वसा पायी जाती है। 100 ग्राम मशरुम से 35 कैलोरी ऊर्जा प्राप्त होती है

शर्करा - मशरूम में शर्करा और स्टार्च की मात्रा बेहद कम होने के कारण मधुमेह के रोगी भी इसे आराम से खा सकते हैं।

विटामिन- हमारे शरीर के लिए आवश्यक विटामिन्स जैसे नायसिन, थयामिन, पेंटथोनिक एसिड, विटामिन सी, राइबोफल्विन इत्यादि भी प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं।

खनिज- विभिन्न प्रकार के खनिज तत्व भी हमारे संतुलित विकार के लिए अति आवश्यक होते हैं। मशरूम में हमारे स्वस्थ्य के लिए जरुरी खनिज तत्व जैसे सल्फर, पोटाशियम, लोहा, तांबा, आयोडीन, ज़िंक आदि जरूरत के हिसाब से पाए जाते हैं।

मशरूम की सब्जी बनाने की विधि

मशरूम की सब्जी अलग-अलग स्थानों पर अलग -अलग तरीके से बनायीं जाती है जिसका स्वाद भी भिन्न-भिन्न होता है। यहाँ हम विभिन्न प्रकार से बनायीं जाने वाली मशरूम की सब्जियों का उल्लेख करेंगे और काजू से बानी सफ़ेद ग्रेवी में मशरूम बनाने का तरीका जानेंगे।

मटर मशरूम की सब्जी

टोफू मशरूम की सब्जी

काजू ग्रेवी में बनी मशरूम की सब्जी

सामग्री -

  • मशरूम 200 ग्राम
  • प्याज 3 मध्यम आकर के
  • लहसुन 1
  • अदरक का 1 इंच टुकड़ा
  • काजू 1/3 कप
  • इलाइची 5 नग और काली मिर्च 10-15 नग

विधि

  • मशरूम को धो कर छोटे टुकड़ों में काट लें। लहसुन और प्याज को भी बारीक़ काट लें।
  • काजू को 2-3 घंटे पानी में भिगो कर रखें या पांच मिनट पानी में उबाल कर उसका ब्लेंडर की सहायता से महीन पेस्ट तैयार कर लें।
  • प्याज, लहसुन, अदरक का भी पेस्ट तैयार कर लें।
  • दोनो पेस्ट को मिला लें।
  • एक कढ़ाई में 2 बड़े चम्मच तेल गर्म करें और उसमें जीरा, राई का तड़का लगा कर हल्दी पाउडर, धनिया पाउडर डालें। साथ ही कालीमिर्च और इलाइची पाउडर भी मिला कर अच्छे से पकाएं।
  • अब काजू, प्याज का पेस्ट कढ़ाई में डाल कर कुछ देर पकाएं और स्वादानुसार नमक और १ छोटा चम्मच शक़्कर भी मिलाएं।
  • टुकड़े किये हुए मशरूम डाल कर जरूरत होने पर थोड़ा पानी मिलाएं।
  • 15 मिनट के लिए पकाएं।
  • आपकी स्वादिष्ट मशरूम की सब्जी तैयार है

पूरी रेसिपी के लिए निचे वीडियो देखें।

यहाँ यह जानना आवश्यक है कि मशरूम पूरी तरह से एक शाकाहारी उत्पाद है और यहाँ जो मशरूम की सब्जी बनाने की विधि बताई गयी है उसमें किसी भी तरह के पशु उत्पाद जैसे दूध या दही का प्रयोग नहीं किया गया है अत: यह वीगन है

अगर आपके आस-पास ताज़ा मशरूम उपलब्ध नहीं है तो आप Amazon से सूखा हुआ या Canned Mushroom खरीद कर भी इसके गुणों और स्वाद का भरपूर मज़ा ले सकते हैं



Posted from my blog with SteemPress : http://hamarasansar.com/life/food-and-drink/how-to-make-mushroom-curry/